• प्रसिद्ध कंपनियों की सहायक कंपनियां है। मुख्यतः ये सहायक कंपनियां मूल कंपनी के भाग होते है, जैसे एचडीएफसी सिक्योरिटीज अनलिस्टेड स्टॉक्स है परन्तु यह एचडीएफसी बैंक का हिस्सा है।
  • अन्य प्रकार के अनलिस्टेड कंपनियां जो मुख्यतः वित्तीय, तकनिकी या संचार आदि क्षेत्र में शामिल है जैसे ड्रीम 11 कंपनी शामिल है। कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं

'सोशल स्टॉक एक्सचेंज' के लिए NSE को मिली हरी झंडी, जानिए क्या होता है ये

समाज के लिए कल्याणकारी काम करने वाली ऐसी संस्थाएं शेयर बाजार में खुद को लिस्ट कराकर पैसा जुटा सकेंगी. जैसा कि NSE, BSE में कंपनियां करती हैं.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर 'सोशल स्टॉक एक्सचेंज' के लिए रास्ता साफ हो गया है. NSE ने बताया है कि मार्केट रेगुलेटर सेबी की ओर से सोशल स्टॉक एक्सचेंज को एक अलग सेगमेंट के तौर पर लाने के लिए सैद्धांतिक मंजूरी मिल गई है. इसके पहले अक्टूबर में BSE को इसके लिए सेबी की तरफ से सैद्धांतिक मंजूरी मिल चुकी है.

जुलाई में इस सोशल स्टॉक एक्सचेंज के फ्रेमवर्क को नोटिफाई किया गया था, इसे रेगुलेटर की ओर से गठित एक वर्किंग ग्रुप और टेक्निकल ग्रुप के के सुझावों के आधार पर विकसित किया गया है.

"हम NSE पर एक सेगमेंट के रूप में SSE को लॉन्च करने की दिशा में काम कर रहे हैं. हमारा मानना ​​है कि ये प्लेटफॉर्म विकास लक्ष्यों में योगदान करने वाली सामाजिक संस्थाओं के लिए बहुत फायदेमंद होगा.

क्या है ये सोशल स्टॉक एक्सचेंज

सोशल स्टॉक एक्सचेंज भारत के लिहाज से एकदम नई और अनूठी सोच है. देश में कई सामाजिक संस्थाएं हैं, जिन्हें हम आम बोलचाल की भाषा में NGO कह देते हैं, कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं जो समाज की भलाई के लिए काम करती हैं, सामान्य तौर पर उनके लिए पैसों का इंतजाम लोगों से मिलने वाले दान से होता है. कई बार इन सामाजिक संस्थाओं को कल्याणकारी काम करने के लिए ज्यादा पैसों की जरूरत होती है, कई बार उन्हें पर्याप्त दान नहीं मिलता, ऐसे में पैसों का इंतजाम कैसे हो, सोशल स्टॉक एक्सचेंज इसी सवाल का जवाब है.

समाज के लिए कल्याणकारी काम करने वाली ऐसी संस्थाएं शेयर बाजार में खुद को लिस्ट कराकर पैसा जुटा सकेंगी. जैसा कि NSE, BSE में कंपनियां करती हैं. लेकिन इनकी लिस्टिंग NSE, BSE में नहीं होगी, इनके लिए अलग से एक सेगमेंट बनाया जाएगा. यानी इस तरह के एक्सचेंज से निजी और नॉन-प्रॉफिट सेक्टर के लिए पैसे जुटाने का रास्ता खुल जाएगा.

"जीरो कूपन जीरो प्रिंसिपल" मतलब दान

SSE का विचार सबसे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2019-20 के अपने बजट भाषण में रखा था. इसके बाद, सरकार ने सिक्योरिटीज कॉन्ट्रैक्ट्स (रेगुलेशन ) एक्ट, 1956 के तहत एक नई सिक्योरिटी "जीरो कूपन जीरो प्रिंसिपल" घोषित करते हुए एक गजट नोटिफिकेशन जारी किया.

कोई NPO जो NSE में रजिस्टर्ड है वो पैसा कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं जुटाने के लिए सोशल स्टॉक एक्सचेंज पर "जीरो कूपन जीरो प्रिंसिपल" सिक्योरिटी को जारी करेगी. इसके लिए क्राइटेरिया तय किया गया है. मौजूदा समय में, नियमों के मुताबिक न्यूनतम इश्यू साइज 1 करोड़ रुपये और सब्सक्रिप्शन के लिए मिनिमम मेंबरशिप साइज 2 लाख रुपये तय किया गया है. सब्सक्रिप्शन का मतलब, आपने "जीरो कूपन जीरो प्रिंसिपल" को खरीदा है, जो कि आपकी ओर से दिया गया दान ही होगा.

कौन सी संस्थाएं ले सकेंगी हिस्सा

अब इसमें कौन कौन सी संस्थाएं हिस्सा ले सकेंगी, इसमें दोनों तरह की संस्थाएं हिस्सा ले सकती हैं, एक तो NPO यानी नॉन प्रॉफिट ऑर्गेनाइजेशन यानी जो मुनाफे के लिए काम नहीं करती हैं, दूसरी फॉर-प्रॉफिट सामाजिक संस्थाएं भी इसमें हिस्सा ले सकती हैं, यानी खुद को लिस्ट कराकर पैसे जुटा सकती हैं.

जो भी सामाजिक संस्थाएं इसमें हिस्सा लेना चाहती हैं उनके लिए काम का क्या क्राइटेरिया होगा, इसे भी साफ किया गया है. जो सामाजिक संस्थाएं, भूख, गरीबी, कुपोषण, असमानता के खिलाफ काम कर रही हैं. जो शिक्षा, रोजगार, समाज में महिलाओं के अधिकारों और LGBTQIA+ कम्यूनिटी को सपोर्ट करने के लिए काम कर रही हैं, वो इसमें हिस्सा ले सकती हैं.

कॉर्पोरेट फाउंडेशन, राजनैतिक या धार्मिक संस्थाएं, प्रोफेशनल या कारोबारी संस्थाएं, इंफ्रा और हाउसिंग कंपनियों की संस्थाएं इसमें हिस्सा नहीं ले सकती हैं.

गैर सूचीबद्ध कंपनियों के शेयर में निवेश करने की जानकारी।

दोस्तों, आप शेयर बाजार में शेयर या स्टॉक कई बार ख़रीदा या बेचा है, लेकिन क्या आप जानते है कि शेयर बाजार में विभिन्न कम्पनियाँ सूचीबद्ध कैसे होती है ? आप कौन से मार्किट या स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) से शेयर खरीद या बेच सकते है ? आईये इसका उत्तर जानते है।

किसी भी शेयर या स्टॉक का क्रय या विक्रय प्रतिभूति बाज़ार (Security Market) के अंतर्गत आता है और प्राथमिक बाज़ार (Primary Market) और द्वितीयक बाज़ार (Secondary Market) इसके दो प्रकार है। प्रतिभूति बाज़ार में एनएसई या बीएसई दो प्रसिद्ध स्टॉक एक्सचेंज है। कोई भी कंपनी आईपीओ (IPO) के माध्यम से शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध होता है और निवेशक प्राथमिक बाज़ार से कंपनी के शेयर सीधे खरीदते है। जब कंपनी द्वितीयक बाज़ार में सूचीबद्ध हो जाता है तो निवेशक या ट्रेडर्स उसके शेयर आपस में खरीदते या बेचते है।

क्या अपने गैर सूचीबद्ध स्टॉक (Unlisted Stock) के बारें में सुना है ? गैर सूचीबद्ध कंपनी के शेयर को कैसे खरीद सकते है, कहाँ खरीद सकते है ? आईये गैर सूचीबद्ध स्टॉक के बारें में विस्तार से समझते है।

स्टॉक या शेयर जो आधिकारिक तौर पर शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध नहीं है, इन्हे अनलिस्टेड स्टॉक कहते है। साधारणतः स्टार्टअप या नयी कंपनी यह व्यवसाय इस श्रेणी में आते है, जिसमे इंस्टीटूशनल निवेशक या वेंचर कैपिटल आदि निवेश करते है। यह प्रक्रिया सूचीबद्ध कंपनी के शेयर खरीदने जितना आसान होता है।

स्टॉक या शेयर जो आधिकारिक तौर पर शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध नहीं है, इन्हे अनलिस्टेड स्टॉक कहते है। साधारणतः स्टार्टअप या नयी कंपनी यह व्यवसाय इस श्रेणी में आते है, जिसमे इंस्टीटूशनल निवेशक या वेंचर कैपिटल आदि निवेश करते है। यह प्रक्रिया सूचीबद्ध कंपनी के शेयर खरीदने जितना आसान होता है।

आईये एक कंपनी "Y" का उदाहरण लेते है। "Y" एक स्टार्टअप कंपनी है और यह किसी भी स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई या बीएसई) में सूचीबद्ध नहीं है। इस कंपनी के स्टॉक को अनलिस्टेड स्टॉक (unlisted stock) कहते है। यदि निवेशक को कंपनी "Y" का व्यावसायिक पद्धति पसंद आता है और उन्होंने कंपनी "Y" में अपने पैसे निवेश करके उस कंपनी के शेयर खरीदते है तो ऐसे स्टॉक को अनलिस्टेड स्टॉक कहते है।

रिलायंस रिटेल, ओला, लावा अदि प्रसिद्ध अनलिस्टेड स्टॉक के उदाहरण है। ये कंपनियां स्टॉक एक्सचेंज में आधिकारिक रूप से पंकजीकृत नहीं है लेकिन ट्रेडर्स इस कंपनियों में ट्रेड करते है। एक निवेशक या ट्रेडर्स के रूप में, यदि आप भी स्टार्टअप कंपनियों में निवेश करना चाहते है तो अनलिस्टेड स्टॉक एक अच्छा विकल्प है।। आईये जानते है की अनलिस्टेड स्टॉक्स या शेयर में कैसे निवेश करे।

अनलिस्टेड स्टॉक्स लिस्ट्स

आपके मन में एक प्रश्न उठ रहा है कि यदि अनलिस्टेड स्टॉक्स एनएसई या बीएसई स्टॉक एक्सचेंज में पंजीकृत नहीं है तो ऐसे स्टॉक्स कैसे ख़रीदे ?

इसका उत्तर है कि अनलिस्टेड स्टॉक्स आप किसी ब्रोकर्स कंपनियों से खरीद सकते है, जैसे Unlisted Zone, Unlisted deals, Buy Sell Unlisted Shares आदि। इसके अलावा अन्य ब्रोकर का सूचि आपको इंटरनेट के माध्यम से मिल जायेगा।

अनलिस्टेड स्टॉक्स कि श्रेणी में भिन्न-2 प्रकार के कंपनियां शामिल है जो निम्नलिखित है।

  • प्रसिद्ध कंपनियों की सहायक कंपनियां है। मुख्यतः ये सहायक कंपनियां मूल कंपनी के भाग होते है, जैसे एचडीएफसी सिक्योरिटीज अनलिस्टेड स्टॉक्स है परन्तु यह एचडीएफसी बैंक का हिस्सा है।
  • अन्य प्रकार के अनलिस्टेड कंपनियां जो मुख्यतः वित्तीय, तकनिकी या संचार आदि क्षेत्र में शामिल है जैसे ड्रीम 11 कंपनी शामिल है।

अनलिस्टेड स्टॉक्स में कैसे इन्वेस्ट करें

यदि आप भी अन्य निवेशक की तरह अनलिस्टेड शेयर में निवेश करना चाहते है, तो बहुत से माध्यम है जिसके द्वारा आप गैर सूचीबद्ध शेयर में निवेश कर सकते है।

स्टार्टअप से शुरू करें

आप किसी स्टार्टअप कंपनी के शेयर में निवेश करके शुरुवात कर सकते है। स्टार्टअप और छोटी कंपनियां शेयर की बिक्री की गारंटी नहीं देती हैं। स्टार्टअप कंपनी जल्दी और अग्रिम भुगतान करने के लिए पैसे की मांग करती है और ट्रेड के दिन से तीन दिन बाद ही डिलीवरी होती है। इसे आम तौर पर टी+3 डिलीवरी कहा जाता है।

ईसॉप शेयर

ईसॉप शेयर एक अनलिस्टेड स्टॉक है, इस शेयर को खरीदने की अनुमति सिर्फ कंपनी के आंतरिक कर्मचारियों को होता है। ईसॉप शेयर भी कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं अन्य शेयर बाजार के शेयर के सामान होता है। एक ब्रोकर आपके लिए सही अनलिस्टेड स्टॉक खोजने में आपकी मदद कर सकता है।

प्रमोटर्स

आप गैर सूचीबद्ध शेयर में कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं निवेश करना चाहते है तो आप सीधे प्रोमोटर्स (Promotors) से खरीद सकते है। कई निवेश बैंक और निजी प्लेसमेंट निजी या नॉन-लिस्टेड शेयरों को खरीदने में मदद प्रदान कर सकते हैं।

अपने सूचीबद्ध और गैर सूचीबद्ध स्टॉक/शेयर के बारें और उसके अंतर को विस्तृत रूप से समझा। इसके साथ साथ अनलिस्टेड स्टॉक को कैसे ख़रीदे सकते है, कौन -2 से माध्यम से खरीद सकते है इसके बारें में जानकारी हासिल किये।

सिक्योरिटी मार्किट (Security Market) में ऐसे कई तरीके हैं जहा आप एक गैर-सूचीबद्ध स्टॉक खरीद सकते हैं। जैसे स्टार्टअप के शेयर, ईसॉप शेयर और प्रमोटर्स के शेयर को खरीद कर गैर सूचीबद्ध शेयर को खरीद सकते है।

अनलिस्टेड कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं स्टॉक, गैर सूचीबद्ध शेयर , अनलिस्टेड स्टॉक कैसे ख़रीदे, अनलिस्टेड स्टॉक क्या है, अनलिस्टेड शेयर में ट्रेडिंग, अनलिस्टेड शेयर में निवेश

शेयर क्या है और शेयर कितने प्रकार के होते हैं (What Is Share In Hindi)

Share Kya Hai In Hindi: शेयर मार्केट के बारे में तो आपने सुना ही होगा. आज एक इस लेख में हम शेयर बाजार की सबसे छोटी इकाई शेयर के बारे में आपको बताने वाले हैं. इस लेख में हम आपको शेयर से जुडी अनेक सारी बेसिक जानकारी देने वाले हैं.

आज के इस लेख में आपको जानने को मिलेगा की Share क्या है, शेयर कितने प्रकार के होते हैं, शेयर क्यों जारी किये जाते हैं, शेयर कैसे बनते हैं, शेयर कैसे खरीदें और शेयर खरीदने के फायदे नुकसान क्या हैं.

जब भी आप शेयर मार्केट सीखना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको शेयर के बारे में ही बताया जाता है, तो चलिए बिना देरी के शुरू करते हैं इस लेख को और समझते हैं शेयर क्या होता है हिंदी में.

कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं

नई दिल्ली :

वाइन (Wine) बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी सुला विनयार्ड्स लिमिटेड के शेयर (Sula Vineyards Share) गुरुवार को स्टॉक एक्सचेंजों पर लिस्ट हो गए हैं। सुला विनयार्ड्स के आईपीओ ने कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं निवेशकों को निराश किया है। इस कंपनी के शेयरों की स्टॉक एक्सचेंजों पर सपाट लिस्टिंग हुई है। लिस्ट होने के बाद कंपनी के शेयर में गिरावट देखी जा रही है। सुला विनयार्ड्स के शेयर एनएसई पर एक फीसदी प्रीमियम के साथ लिस्ट हुए। वहीं, बीएसई पर कंपनी के शेयर 0.28 फीसदी प्रीमियम पर लिस्ट हुए हैं। कंपनी का शेयर बीएसई पर 358 रुपये पर लिस्ट हुआ। वहीं, यह शेयर एनएसई पर 361 रुपये पर लिस्ट हुआ। पॉजिटिव लिस्टिंग के बाद कंपनी के शेयर 5 फीसदी तक गिर गए। एक्सपर्ट्स ने लॉन्ग टर्म इन्वेस्टर्स को इस शेयर को होल्ड करने की सलाह दी है।

आईपीओ निवेशकों को हुआ नुकसान

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर शुरुआती कारोबार में सुला विनयार्ड्स का शेयर 4.18 फीसदी या 14.95 रुपये की गिरावट के साथ 343.05 रुपये पर ट्रेड करता दिखा। इस तरह आईपीओ के निवेशकों को इस समय तक 3.91 फीसदी या प्रति शेयर 13.65 रुपये का नुकसान होता दिखा। शुरुआती कारोबारी में यह शेयर अधिकतम 363.40 रुपये तक और न्यूनतम 339 रुपये तक गया। कंपनी का बाजार पूंजीकरण इस समय 2,887.18 करोड़ रुपये था।

2.33 गुना हुआ था सब्सक्राइब

कंपनी ने अपने दो रुपये बेस प्राइस वाले शेयर के लिए 340 से 357 रुपये का प्राइस बैंड तय किया था। यह आईपीओ सब्सक्रिप्शन के लिए 12 दिसंबर 2022 को खुला था। एक्सचेंज आंकड़ों के मुताबिक यह आईपीओ 2.33 गुना सब्सक्राइब हुआ था। ग्रे मार्केट में भी इस शेयर को कमजोर रिस्पांस देखने को मिला था। ग्रे मार्केट में यह शेयर 11 रुपये डिस्काउंट पर ट्रेड करता दिखा था। कंपनी ने इसी साल जुलाई में IPO के लिए सेबी के पास आवदेन किया था।

क्या करती है कंपनी

सुला विनयार्ड्स ने साल 1996 में अपना पहला विनयार्ड खोला था। साल 2000 में कंपनी ने पहली बार अलग-अलग वेराइटी के अंगूर से वाइन बनाने का भी काम शुरू किया। फिलहाल कंपनी 13 अलग-अलग ब्रांड के तहत 56 तरह की वाइन बनाती है। कंपनी के पास महाराष्ट्र और कर्नाटक में कुल 6 प्रोडक्शन फैसिलिटी है। इसमें से 4 फैसिलिटी कंपनी की है और 2 फैसिलिटी लीज पर ली गई है। सुला विनयार्ड्स की कमाई का प्राथमिक स्रोत तो वाइन की बिक्री ही है। लेकिन इसकी आमदनी के अन्य स्रोत भी हैं। कंपनी के पास दो वाइन रिसॉर्ट भी हैं। इसमें टूरिस्ट ठहरते हैं। वे वाइन टेस्ट करते हैं। इससे भी कंपनी की कमाई होती है। ये दोनों रिसॉर्ट महाराष्ट्र का नासिक कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं जिले में हैं। इनका नाम Beyond Sula और The Source at Sula है।

अगर आप इस आलेख पर सुझाए गए लिंक से कुछ खरीदते हैं तो Microsoft और भागीदारों को इसका प्रतिफल मिल सकता है.

स्टॉक मार्केट पर लिस्टेड कंपनी की लिस्ट

Zerodha

भारत के दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज है, पहला बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज, जिसे शोर्ट में BSE के नाम से जाना जाता है, और दूसरा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज, जिसे शोर्ट में NSE के नाम से जाना जाता है.

  • स्टॉक मार्केट NSE पर लिस्टेड कंपनी कितनी है? और दूसरा
  • स्टॉक मार्केट BSE पर लिस्टेड कंपनी कितनी है?

तो आइए NSE/BSE की वेबसाइट पर इसे चेक करते है और जानते है कि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज जो भारत का सबसे प्रमुख स्टॉक मार्केट है,

NSE पर लिस्टेड कंपनी की लिस्ट

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की वेबसाइट NSE INDIA पर CORPORATE टैब के अन्दर SECURITIES का आप्शन मिलता है, वहा पर क्लिक करने पर कुछ इस प्रकार का पेज ओपन होता है –

यहाँ पर आपको डाउनलोड का विकल्प मिलता है, जिसमे अगर आप डाउनलोड के लिए उपलब्ध फाइल में पहली फाइल जिसका नाम है – Securities available for Equity segment (.csv) उसे डाउनलोड करके आप EXCEL में ओपन करके देख सकते है, कि फ़िलहाल नेशनल स्टॉक एक्सचेंज यानि NSE पर कुल कितनी कंपनी लिस्टेड है,

अगर आज 30 नवम्बर 2018 को NSE इंडिया की वेबसाइट पर उपलब्ध आंकड़ो के अनुसार बात की जाये कि कुल कितने कंपनी के शेयर ट्रेड के लिस्टेड है, तो कुल 1614 कंपनी के शेयर लिस्टेड है, आप इनकी सूची इस लिंक से डाउनलोड एक्सेल फाइल में चेक कर सकते है.

BSE पर लिस्टेड कंपनी की लिस्ट

BSE पर लिस्टेड कंपनी चेक करने के लिए आपको थोडा अलग प्रोसेस फॉलो करना होगा,

BSE पर लिस्टेड कुल कंपनी को चेक करने की लिस्ट –

BSE की वेबसाइट पर जाए –

Home के अन्दर Corporates उसके अन्दर Listed Companies और फिर विकल्प मिलता है – List Of Securities का,

यहाँ पर आपको निम्न प्रोसेस फोलो करना है – पहला आप्शन है – SEGMENT,

इसमें आपको EQUITY , MF यानी म्यूच्यूअल फण्ड, परेफरेंस शेयर, डिबेंचर एंड बांड्स, और EQUITY INSTITUTIONAL SERIES के आप्शन में कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं कंपनी शेयर्स शेयर मार्केट में लिस्ट कैसे होते हैं कोई एक आप्शन सेलेक्ट करना होगा,

अब क्योकि आप सभी लिस्टेड कंपनी के शेयर की लिस्ट देखना चाहते है तो आपको इसमें EQUITY के विकल्प का चुनाव करना होगा,

दूसरा आप्शन है – STATUS,

इसमें आपको तीन विक्ल्प मिलते है

दूसरा – SUSPENDED, और

तीसरा – DESISTED (डीलिस्टेड)

तो क्योकि आप एक्टिव कंपनी की लिस्ट देखना चाहते है तो आपको एक्टिव के विकल्प का चुनाव करना है,

इसके आलावा तीन विकल्प और है –

  1. SECURITIES NAME – अगर आप किसी स्पेशल कंपनी को सर्च करना चाहते है, तो कंपनी का नाम लिखिए, वर्ना अगर आप सिर्फ सभी कंपनी का लिस्ट देखना चाहते है तो आप इसे BLANK छोड़ सकते है,
  2. GROUP – अगर आप किसी खास ग्रुप की कंपनी चाहते है तो ग्रुप का आप्शन सेलेक्ट करे वर्ना आप सिर्फ सभी कंपनी का लिस्ट देखना चाहते है तो आप इसे BLANK छोड़ सकते है,
  3. INDUSTRY – अगर आप किसी स्पेशलइंडस्ट्री की कंपनी की लिस्ट चाहते है तो इंडस्ट्री का नाम सेलेक्ट कर सकते है, वर्ना अगर आप सिर्फ सभी कंपनी का लिस्ट देखना चाहते है तो आप इसे BLANK छोड़ सकते है,

और इसके बाद से सर्च पर क्लिक करके – आप NSE और BSE पर लिस्टेड , सिर्फ BSE के सभी कंपनी की सूची को देख सकते है,

आज के इस पोस्ट में हमने जाना – स्टॉक मार्केट पर लिस्टेड कंपनी कितनी है, आप इस पोस्ट के बारे में अपने सुझाव या विचार नीचे कमेंट करके बता सकते है.

रेटिंग: 4.11
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 314